मंदिर के िलए माहौल बनाने के साथ राजनीति में मुस्लिम महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के प्रयास में जुटा संघ

muslim ladyनागपुर : उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार बनने के बाद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ अयोध्या मंदिर मामले पर सहमति बनाने के प्रयास में जुट गया है। िवशेषकर मुस्लिम समुदाय में भाजपा का जनाधार बढ़ाने का प्रयास किया जा रहा है। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विचारों पर काम कर रहे राष्ट्रीय मुस्लिम मंच के माध्यम से कुछ रणनीतिक लक्ष्यों को साधने का प्रयास किया जा रहा है। महाराष्ट्र में भी इस कार्य को िवशेष प्राथमिकता के साथ गति देने का प्रयास किया जा रहा है। यहां 5 स्थानों पर मनपा चुनावों में इस प्रयोग पर जोर दिया जाएगा। आगामी 8 व 9 अप्रैल को औरंगाबाद में राष्ट्रीय मुस्लिम मंच की बैठक होनेवाली है। बैठक में मुस्लिम महिलाओं काे संगठन से जोड़ने की रणनीति सामने आएगी।

कानून बनाने की कवायद

संघ से जुड़े एक पदाधिकारी के अनुसार, उत्तर प्रदेश में हुए िवधानसभा चुनावों से पहले ही राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को अंदाजा था कि वहां भाजपा की सरकार आनेवाली है। इसलिए, राममंदिर बनाने के िलए कानून बनाने की कवायद भी शुरू कर दी थी। कानूनी जानकारों से सलाह-मशविरा करना शुरू कर दिया था। कहा गया िक अापसी बातचीत से राममंदिर का हल नहीं निकलता है तो कानून बनाने पर विचार किया जाएगा। नागपुर से ही इस बात को प्रमुखता से उठाया गया। वर्ष 2016 में चिटणवीस सेंटर में नारद जयंती कार्यक्रम में भाजपा नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने मंदिर का मामला प्रमुखता से उठाया था। उत्तर प्रदेश चुनाव में िवश्व हिंदू परिषद, राष्ट्रीय मुस्लिम मंच समेत संघ के अन्य संगठनों ने जमीनी स्तर पर संघ के एजेंडे का खुलकर प्रचार किया।

क्या हो रहे प्रयास

महाराष्ट्र में मुस्लिम समुदाय को भाजपा से जोड़ने के लिए जो प्रयास किए जा रहे हैं, उसके तहत महिलाओं व युवाओं को रणनीतिक तौर पर केंद्र में रखा गया है। बूथ स्तर पर वन प्लस टेन की जो टीम तैयार की गई है उसमें मुस्लिम युवा व महिलाओं को शामिल किया गया है। बूथ स्तर पर भाजपा के मुस्लिम युवा संयोजक, सहसंयोजक व महिला संयोजक, सहसंयोजक बनाए गए हैं। अप्रैल के अंतिम सप्ताह में 5 स्थानों पर मनपा चुनाव होने हैं। चंद्रपुर, मालेगांव, परभणी, लातूर, पनवेल व भिवंडी में मनपा चुनाव होंगे। मालेगांव में 64, लातूर 22 परभणी में 17 सीटों को मुस्लिम बाहुल्य क्षेत्र के रूप में चिह्नित किया गया है। इन स्थानों पर महिला बचत समूह के अलावा अन्य रोजगारमूलक कार्यक्रमों में मुस्लिम महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के िलए भी जोर दिया जा रहा है। भाजपा मुस्लिम मोर्चा के प्रदेश अध्यक्ष जमाल सिद्धिकी के अनुसार, भाजपा व मुस्लिम समुदाय के बीच संवाद बढ़ाने का काम पहले से ही किया जा रहा है। कुछ भ्रांतियां दोनों पक्ष की ओर से रही है। मुस्लिम मोर्चा ने राज्य व केंद्र सरकार के कार्य मुस्लिम आबादी वाले क्षेत्रों में प्रमुखता से रखा है। निकाय चुनावों में मुस्लिमों को उम्मीदवार बनाया जा रहा है। नागपुर मनपा में 94 सीटों के िलए मुस्लिमों ने उम्मीदवारी मांगी थी। 4 सीटों पर उन्हें लड़ने का मौका दिया गया। करीबी होने पर सारी भ्रांतियां दूर हो जाएंगी।

Share this post

Leave a Reply

scroll to top