फाइनेंस ज्ञान… इंटरनेट का उपयोग करते हैं तो बीमा करा लीजिए

cyber-risk.jpg

लॉकडाउन में इंटरनेट का उपयोग बढ़ने से बढ़ रहा है साइबर रिस्क

मुंबई. कोरोना के कारण लॉकडाउन अवधि के दौरान हाल के दिनों में पर्सनल कंप्यूटर और डिजिटल डिवाइस पर इंटरनेट की खपत में वृद्धि हुई है। इस प्रकार, अधिक से अधिक लोगों को अब साइबर रिस्क के चपेट में आने की संभावना बढ़ गई है। लॉकडाउन के बाद, अधिक से अधिक लोग अब भुगतान के लिए डिजिटल प्लेटफॉर्म का उपयोग कर रहे हैं। सोशल डिस्टेंसिंग के साथ, नकदी से पेमेंट का आदान-प्रदान और भी कम हो गया है, साथ ही साथ, भुगतान के ऑनलाइन तरीके अब बहुत बड़ा रोल अदा करने जा रहे हैं जिससे साइबर खतरे का एक्सपोजर बढ़ जाता है। ऐसे में आपको अब साइबर बीमा लेना जरूरी हो गया है।

नए यूजर्स और बुजुर्गों के चपेट में आने की आशंका : लॉकडाउन में इंटरनेट के उपयोग से खासकर नए यूजर्स, बुजुर्गों या कम टेक जानकारों के लिए खतरा ज्यादा बढ़ गया है। इसके साथ ही साथ खुद को एजुकेट करने और मनोरंजन के लिए अब ज्यादा से ज्यादा लोग सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर आने लगे हैं। ज्यादा से ज्यादा वक्त इंटरनेट पर बिताने लगे हैं। इसके कारण साइबर हमलों की बढ़ती घटनाओं जैसे स्पाईवेयर और रैनसमवेयर, फिशिंग ईमेल, साइबर स्टॉकिंग आदि सहित मैलवेयर हमलों को भी देखा जा रहा है। साइबर बीमा में साइबर खतरों के खिलाफ व्यक्तियों को किस तरह का कवरेज दिया गया है और ऐसी पॉलिसी खरीदते समय उन चीजों पर विचार करने की आवश्यकता है।

हाइपर स्पीड से खतरा : हम एक डिजिटल दुनिया में रहते हैं जहां जानकारी हाइपर स्पीड पर बनाई और प्रसारित की जाती है। घरों या ऑफिस में इस्तेमाल किए जा रहे विभिन्न उपकरण और एप्पलीकेशन अब इतने इंटीग्रेटेड हो गए हैं कि उन्हें अलग रखना मुश्किल है। इस प्रकार, डिजिटलीकरण अपने साथ कई जोखिम लेकर आता है। फिर ऐसे में जरूरी हो जाता है कि हम खुद को साइबर खतरों से बचाने के लिए तैयार रहें।

फिशिंग,स्पीयर फिशिंग जैसे खतरे हैं : फ़िशिंग, स्पीयर फ़िशिंग और स्पूफिंग साइबर अपराधियों के लिए कुछ आजमाए हुए तरीके हैं, जिसमें धोखाधड़ी करने वाले लोग विश्वसनीय कंपनियों का ओरिजनल सा दिखने वाला पेज या ईमेल का उपयोग करते हैं। यूज़र्स को उनकी व्यक्तिगत जानकारी देने जैसे कि उनकी लॉग-इन क्रेडेंशियल्स, क्रेडिट कार्ड, बैंक खाते का विवरण आदि मांगते हैं।

साइबर बीमा के कवर में हर नुकसान शामिल है : इस सूरत में, यदि फिशिंग घोटाले का शिकार होने वाले ग्राहक के पास साइबर-बीमा कवर है, तो वह न केवल फंड के नुकसान के लिए भुगतान करेगा, बल्कि आपराधिक शिकायत दर्ज करने और एक बार दोषी पाए जाने वाले के खिलाफ कानूनी कार्रवाई का खर्च भी वहन करेगा। इसके अतिरिक्त, साइबर जबरन वसूली के मामलों में, बीमा कंपनी नुकसान को कम करने के लिए एक विशेष सलाहकार को काम पर रखने की सभी लागतों का भुगतान करेगी।

मैलवेयर कंप्यूटर तक को पहुंचाता है नुकसान : मैलवेयर हमले के मामलों में, जो कंप्यूटर तक को नुकसान पहुंचाता है, साइबर बीमा कंप्यूटर सिस्टम, सॉफ्टवेयर और डेटा की बहाली में आने वाली लागत का भुगतान करेगा। उपर्युक्त उदाहरणों के अलावा, एक व्यापक साइबर बीमा योजना परामर्श सेवाओं के उपचार (Counselling Services treatment) पर किए गए खर्चों के लिए कवरेज, गोपनीयता उल्लंघन और डेटा उल्लंघन के लिए थर्ड पार्टी क्लेम, साइबर एक्सटॉर्शन लॉस और कोर्ट कचहरी के चक्कर लगाने में आने वाले पैसों को भी कवर करता है।

कवरेज और सुविधाएं देखें : संभावित पॉलिसी खरीदार को पॉलिसी में उन कवरेज और सुविधाओं को देखना चाहिए जो कुछ बीमाकर्ताओं आपराधिक मामले दायर होने पर मजदूरी की हानि जैसे कवरेज की पेशकश करते हैं या आईटी सलाहकारों के लिए बिल को भी रीइम्बर्स के लिए कवर करते हैं। कोई वेटिंग पीरियड जैसे फीचर्स भी कुछ बीमाकर्ताओं के लिये ऑफर होते हैं और जो बीमित व्यक्ति के लिए भी फायदेमंद साबित होते हैं।

आवश्यकताओं के साथ पॉलिसी कवरेज के साथ मेल करें : साइबर-बीमा कवर का चयन करते समय, व्यक्तियों को सलाह दी जाती है कि वे अपनी आवश्यकताओं के साथ पॉलिसी कवरेज से मेल करें और अपने एक्सपोजर के अनुसार बीमित (सम इंश्योर्ड) राशि का चयन करें। उनका एक्सपोजर, सोशल मीडिया पर उनकी मौजूदगी, उनकी पब्लिक इमेज यानी अगर वे पब्लिक फिगर हैं या नहीं और उनकी फाइनेंशियल स्टेटस जैसे फैक्टर्स पर आधारित होंगे। ये फैक्टर्स उन्हें खरीदे जाने वाले कवर के लिए सीमा तय करने में प्रमुख भूमिका निभाएंगे। पॉलिसी के कवरेज और एक्सक्लूशन सेक्शन की जांच करना महत्वपूर्ण है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनकी आवश्यकताओं को पॉलिसी द्वारा पूरा किया जा रहा है या नहीं।

कई तरह के नुकसान का कवर : ऐसी नीतियों के तहत कुछ कॉमन एक्सक्लूशन जैसे कि बेईमान और अनुचित आचरण, शारीरिक चोट, संपत्ति का नुकसान, अनाधिकृत रूप से डेटा का संग्रह, अनैतिक या अश्लील सेवाएं आदि होती हैं। इंटरनेट ने निश्चित रूप से हमारे जीवन को आसान बना दिया है, लेकिन यह भी सच है कि इसने हमें कई तरह के सामने लाकर खड़ा कर दिया है।

आज के समय की मांग है साइबर बीमा कवर : व्यक्तियों के लिए डिजिटलीकरण के जोखिम को ध्यान में रखते हुए, एक उपयुक्त साइबर बीमा कवर आज समय की मांग बन चुकी है। ये पॉलिसी काफी सस्ती होती है और आपको साइबर खतरों के खिलाफ व्यापक कवरेज प्रदान करती हैं ताकि आप किसी भी साइबर हमलों के खिलाफ आर्थिक रूप से अच्छी तरह से सुरक्षित हों और बिना किसी तनाव के इंटरनेट पर ब्राउज़, सर्फ और लेनदेन कर सकें।

Share this post

Leave a Reply

scroll to top