पहले सीआईएफएस में थे, अब युवाओं को सेना-पुलिस में भर्ती का देते हैं नि:शुल्क प्रशिक्षण

sena-2.jpg

नागपुर शहर के प्रभाग-5 के किनखेड़े ले-आउट में नागपुर सुधार प्रन्यास के खेल मैदान पर सुबह-सुबह जुटते हैं युवा, सपने को सच करने का सिखाया जाता है गुर, कराया जाता है अभ्यास
नागपुर। प्रभाग क्रमांक-5 के किनखेड़े ले-आउट में नागपुर सुधार प्रन्यास के पं. दीनदयाल उपाध्याय खेल मैदान की तस्वीर बदल गई है। अब इस मैदान पर सुबह साढ़े पांच से साढ़े आठ बजे तक युवाओं के सपने को सच करने का गुर सिखाया जाता है। परिश्रम के भट्ठी में तपाया जाता है, ताकि देश सेवा में इस युवा शक्ति का उपयोग किया जा सके। 24 साल सीआईएसएफ (केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल) की सेवा करने वाले कामठी निवासी चंद्रशेखर अरगुलेवार की पहल से यह सब संभव हो पा रहा है। आर्थिक रूप से कमजोर ऐसे युवाओं के लिए वह वरदान बनकर सामने आए हैं। वह रोज इन युवाओं को सेना व पुलिस में भर्ती होने का प्रशिक्षण देते हैं। वह भी नि:शुल्क।
15 अगस्त से शुरुआत : 15 अगस्त को किनखेड़े ले-आउट में नागपुर सुधार प्रन्यास के पं. दीनदयाल उपाध्याय खेल मैदान पर प्रभाग के पार्षद संजय चावरे की मुलाकात चंद्रशेखर अरगुलेवार से हुई थी। औपचारिकत बातचीत में पता चला कि चंद्रशेखर पुलिस व सेना भर्ती के लिए प्रशिक्षण देेते हैं। तब संजय चावरे ने उनसे गुजारिश की। उन्होंने अपने प्रभाग के युवाओं की मदद करने को कहा। चंद्रशेखर ने प्रशिक्षण देने की स्वीकृति दे दी
हवलदार से शिक्षक बने चंद्रशेखर का सफर : चंद्रशेखर अरगुलेवार 1993 में सीआईएसएफ में सिपाही के रूप में भर्ती हुए। 1999 में हवलदार बने। उन्होंने 2017 में स्वेच्छानिवृत्ति ली। तब से अकेले कामठी में ही 1000 युवाओं को भर्ती पूर्व प्रशिक्षण दे चुके हैं। इनमें से 11 की नौकरी भी लगी है। नागपुर में प्रशिक्षण ले रहे 247 में से 14 युवाओं के बारे में उनका मानना है कि आनेवाली भर्ती में इन्हें 100 फीसदी सफलता मिलेगी।
10 हजार युवाओं को प्रशिक्षित करने का लक्ष्य
पुलिस व सेना में भर्ती होनेवाले युवा गरीब तबके के होते हैं। कोचिंग संस्थाओं में महंगा शुल्क वह नहीं भर सकते। इसलिए मैं उन्हें निशुल्क प्रशिक्षण दे रहा हूं। कमसे कम 10 हजार युवाओं को प्रशिक्षण देने का लक्ष्य रखा है। -चंद्रशेखर अरगुलेवार, प्रशिक्षक
247 युवा ले रहे प्रशिक्षण
पंडित दीनदयाल उपाध्याय खेल मैदान पर 247 युवा प्रशिक्षण ले रहे हैं। इसमें 172 लड़के व 75 लड़कियां शामिल हैं। सभी गरीब व मध्यम वर्ग से हैं। पुलिस व सेना की भर्ती प्रक्रिया के हिसाब से शारीरिक व्यायाम व लिखित परीक्षा की तैयारी कराई जा रही है। प्रशिक्षण के लिए प्रभाग क्रमांक 3, 4, 5, 20 व 21 के युवा नियमित आ रहे हैं। शहर का कोई भी युवा इस प्रशिक्षण का लाभ उठा सकता है। -संजय चावरे, पार्षद, प्रभाग क्रमांक-5

Share this post

Leave a Reply

scroll to top