हजयात्रा.. फर्जी वोटर कार्ड से महाराष्ट्र के परिवार ने यूपी कोटे का लाभ लिया

voter-id.jpeg

हज-2020 के लिए फार्म भरवाने के सिलसिले में महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी भंडारा जिले के दौरे पर गए तो हुआ चौंकाने वाला खुलासा, भंडारा पुलिस में सबूत के साथ शिकायत दर्ज कराई,  उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिले के सरायथू तहसील से रचा गया खेल, महाराष्ट्र के 4 लोगों को यूपी का बताया गया निवासी
नागपुर। हज के नाम पर हुए फर्जीवाड़े का खुलासा महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी ने किया है। उन्होंने बाकायदा भंडारा पुलिस को सबूत भी सौंपा है। आरोप है कि भंडारा (महाराष्ट्र) के चार लोगों को उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिले का निवासी बनाया गया। इसके लिए कौशाम्बी का फर्जी मतदाता पहचान पत्र बनाया गया। इसी वोटर कार्ड के बूते वहां के बैंक में खाता तक खुलवाया गया। इसके बाद उत्तर प्रदेश हज कमेटी के माध्यम से चारों को लखनऊ से हज यात्रा पर भेजा गया।
——————————
ऐसे हुआ खुलासा : महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी भंडारा (महाराष्ट्र) जिले के दौरे पर थे। चर्चा में पता चला कि भंडारा के एक परिवार उत्तर प्रदेश से हज यात्रा कर लौटा है। इसमें घर के मुखिया के अलावा उनकी पत्नी, बेटी और बहन के कागजातों की जांच करने पर उत्तर प्रदेश राज्य हज कमेटी का आवेदन फार्म निकला। निवासी के तौर पर महाराष्ट्र के भंडारा निवासी इस परिवार को उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिले के सरायथू तहसील स्थित कोरा मुरीदन गांव का निवासी दर्शाया गया था। आवेदन फार्म भरने के लिए उनका फर्जी वोटर कार्ड बनाया गया था। वोटर कार्ड के आधार पर ही बैंक ऑफ बड़ौदा की सरायथू शाखा में खाता खोला गया। बैंक में उत्तर प्रदेश के सैयद हारून के मोबाइल नंबर का इस्तेमाल किया गया।
भंडारा से वाया मुंबई कनेक्शन जुड़ा उत्तर प्रदेश से : भंडारा (महाराष्ट्र) के परिवार ने महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के माध्यम से हज यात्रा के लिए दो-तीन बार फार्म भरा, लेकिन नंबर नहीं लगा। इस दौरान उन्हें पता चला कि भंडारा का ही एक शख्स हज के लिए फार्म भरवाने का काम करता है। उन्होेंने उससे गुजारिश की कि हज यात्रा का नंबर लगा दो। उसने अमरावती के एक टूर एंड ट्रैवल कंपनी से संपर्क किया और उसे 10 लाख 50 हजार रुपए दिए। ट्रैवल वाले ने मुंबई में किसी अब्दुल आदिल से और आदिल ने उत्तर प्रदेश निवासी एक व्यक्ति से संपर्क किया। इसके बाद उसके मामा से संपर्क किया गया। मामा-भांजा ने ही भंडारा (महाराष्ट्र) के परिवार को उत्तर प्रदेश के कौशाम्बी जिले के सरायथू तहसील स्थित कोरा मुरीदन गांव का निवासी दर्शाते हुए उनका फर्जी वोटर कार्ड बनाया। बकौल जमाल सिद्दीकी, हफीज पठान ने बताया कि उनके अलावा भंडारा (महाराष्ट्र) के और तीन लोग उत्तर प्रदेश से हज यात्रा पर गए थे।
पुलिस ने शिकायतकर्ता को ही भेजा सबूत जुटाने : महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के तत्कालीन अध्यक्ष जमाल सिद्दीकी ने 21 नवंबर 2019 को भंडारा थाने में इसकी शिकायत दर्ज कराई। भंडारा के पुलिस निरीक्षक सुधाकर चव्हाण ने इसी साल 23 जनवरी को अपने जवाब में कहा कि यह प्रकरण उत्तर प्रदेश राज्य हज कमेटी को भेजकर आवश्यक कागजात मांगे हैं। हद तो तब हो गई जब भंडारा पुलिस ने सिद्दीकी से ही उत्तर प्रदेश से कागजात लाकर देने को कहा। सिद्दीकी ने उत्तर प्रदेश जाकर उत्तर प्रदेश राज्य हज कमेटी के कार्यकारी अधिकारी राहुल से मुलाकात की और पठान परिवार का फर्जी वोटर कार्ड, बैंक अकाउंट, हज कमेटी का फार्म और अप्रूवल शीट ले आए। सिद्दीकी ने सभी कागजात 18 अगस्त को भंडारा के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक बंडोपंत बनसोडे को सौंप दिए।
पवित्र कार्य में दलालों का गिरोह सक्रिय : हज जैसे पवित्र कार्य में दलालों का गिरोह सक्रिय है, जो जरूरतमंद लोगों का हक छीनकर पैसे वाले लोगों को हज कराते हैं। इनका साथ हज कमेटी ऑफ इंडिया देती है। 2019 में महाराष्ट्र के लोग बड़ी संख्या में उत्तर प्रदेश से हज यात्रा पर गए। -जमाल सिद्दीकी, पूर्व अध्यक्ष, महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी
मिली है शिकायत : भंडारा के पठान परिवार द्वारा उत्तर प्रदेश से फर्जी वोटर कार्ड और बैंक अकाउंट खोलकर हज यात्रा की शिकायत मिली है। चूंकि मामला उत्तर प्रदेश का है, इसलिए सभी कागजात उत्तर प्रदेश राज्य हज कमेटी को भेज दिए हैं। इस संबंध में हरसंभव मदद की जाएगी।
-बंडोपंत बनसोडे, वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक, भंडारा पुलिस थाना

उत्तर प्रदेश राज्य हज कमेटी कर रही जांच : फर्जी वोटर कार्ड और बैंक अकाउंट के जरिये स्वयं को उत्तर प्रदेश का निवासी दर्शाकर उत्तर प्रदेश से हज यात्रा करने की शिकायत मिली है। महाराष्ट्र राज्य हज कमेटी के पूर्व जमाल सिद्दीकी ने शिकायत की है कि महाराष्ट्र के भंडारा जिले के पठान परिवार के चार लोग उत्तर प्रदेश से हज यात्रा पर गए थे। इसकी जांच शुरू हो गई है। जांच रिपोर्ट प्राप्त होने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
-राहुल गुप्ता, सीईओ, उत्तर प्रदेश राज्य हज कमेटी

Share this post

Leave a Reply

scroll to top