कलाकार की कृति

klakar-ki-kirti.jpg

महान चित्रकार आगस्टीन को अपनी कला से अत्यंत प्रेम था। वही उनकी आजीविका का साधन भी थी। दुर्भाग्यवश उनको गठिया हो गया और उनका रोग इतना बढा कि उनके हाथ -पैरों ने काम करना बंद कर दिया । जब उनके लिए उँगलियों से ब्रश पकड़ना भी कठिन हो गया तो वे उँगलियों में रस्सी से ब्रश बांधकर काम करने लगे । ऎसे करने में उन्हें भयंकर पीड़ा होती परंतु कला के प्रति उनकी लगन कम नहीं पड़ी । किसी ने उनसे पूछा — ” आप इतने वृद्ध और रुग्ण होने के बाद भी अपने कार्य के इतने दत्तचित्त कैसे रह पाते है ?”
आगस्टीन ने उत्तर दिया —-“यदि कोई कलाकार अपनी कृति और प्रगति को देखकर संतोष कर ले या अहंकार करने लगे तो समझना चाहिइये कि उसके विकास का अंत हो गया । प्रगति के शिखर पर पहुचने के लिए उत्कट आकांक्षा और कठोर परिश्रम की आवश्यकता होती है । प्रगति अनंत है, इसलिए उसके प्रति समर्पण भी असीम होनी चाइये ।” उनकी अपनी कला के प्रति तन्मयता ने ही उन्हें छेत्र में शिखर पर पहुचाया ।

Share this post

Leave a Reply

scroll to top