लिलुआ में नियमों को तांक पर रखकर चल रहे है दर्जनों कारखाने

liluah-photo.jpg

हावड़ा : जिले का लिलुआ के गौशाला इलाके में दर्जनों कारखाने सरकारी नियमों को तांक पर रख कर धड़ल्ले से चल रहे हैं। कई कारखाने में बनी इमारत अवैध तरीके से बनाए गए हैं। दरअसल निगम या प्रशासन से बिना अनुमति लिए ही कारखाना परिसर में ढलाई वाले भवन तैयार किए गए हैं। इन भवनों में कारखाना मालिकों के के दफ्तर और श्रमिकों के रहने के लिए व्यवस्था की जाती है। इससे प्रशासन को काफी राजस्व का भी नुकसान हो रहा है। सूत्रों की मानें तो गोशाला के अदंर चलने वाले कई कारखानों के पास निगम का लाइसेंस भी नहीं है। इसके अलावा कई कारखानों में अग्निशमन व्यवस्था भी नहीं है। ऐसे में अगर किसी कारखाने में कोई आग लगती है तो को उसे काबू किया जा सके।हाल यह है कि रोजाना प्रदूषण सहित अन्य नियमों का उल्लंघन किया जाता है और प्रशासन के कान पर जू तक नहीं रेंगता है। यहां पर रोजना के बढ़ते प्रदूषण के कारण यहां के स्थानीय नागरिकों को स्वास्थ्य को नुकसान पहुंच रहा है। हालांकि सैकड़ों लोगों के रोजगार का साधन होने के कारण कई लोग चाहकर भी इन कारखानों के मालिकों के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद नहीं कर सकते हैं। स्थानीय सूत्रों की मानें तो गोशाला इलाके में चलने वाले कई कारखाने तो अवैैध तरीके से चलाए जा रहे हैं।  इसके अलावा गोशाला में मौजूद कारखाने से होने वाली प्रदूषण से लोग काफी परेशान है। लोगों का कहना है विनाश के पथ पर विकास नहीं होना चाहिए। लोगों का कहना है कि कारखाना चले लेकिन आसपास के वातावऱन का भी ध्यान रखा जाएगा। कारखाना मालिक वहां से रुपय. कमाते हैं लेकिन वहां के विकास के लिए काम नहीं करते हैं।

Share this post

Leave a Reply

scroll to top